Tag Archive | rishi prasad

‘बाल संस्कार’ पुस्तक से….

मेरा नाम ऐशवर्य तिवारी है। मैं कक्षा चार का छात्र हूँ। मेरी माँ पूज्य बापू जी द्वारा दीक्षित है। उसने मुझे आश्रम से प्रकाशित पुस्तक बाल संस्कार पढ़ने को दी। उसमें लिखे प्रयोग करने से मेरी स्मरणशक्ति बढ़ी है। पहले मैंने पहली कक्षा में 78 % , दूसरी में 80 % अंक प्राप्त किये थे, परंतु अब गुरुदेव की कृपा से तीसरी कक्षा में 90 % अंक प्राप्त किये।

ऐश्वर्य तिवारी
ऋषि प्रसाद, नवम्बर 2003, पृष्ठ संख्या 29, अंक 131

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

ब्लड कैंसर गायब !

हमारे मित्र की लड़की मुंबई में 9वीं कक्षा में पढ़ती थी। 2001 अप्रैल में उसे ब्लड कैंसर हो गया था। गरीब घर की इकलौती लड़की…. तभी बापू जी ने सोनी चैनल पर अपने सत्संग में तुलसी रस व शहद की चमत्कारिक दवा बतायी। हमने तुरंत उसकी माँ को फोन करके यह दवा बता दी। उन्होंने उसी दिन से तुलसी का रस और शहद एवं ज्वारे का रस देना शुरु कर दिया और कुछ ही दिनों में वह ठीक हो गयी। अब वह एकदम स्वस्थ है एवं खेलकूद में उसने पूरे भारत में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है।

कैसी है बापू जी की कृपा !

आशा वर्मा
504, आनंद विहार, मुंबई (महाराष्ट्र)
ऋषि प्रसाद, पृष्ठ संख्या 30, अंक 122, फरवरी 2003.

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

ब्लड कैंसर से मुक्ति

जनवरी 2002 में मेरे बड़े पुत्र को बुखार आया था। डॉक्टरों को दिखाया था तो किसी ने मलेरिया कहकर दवाइयाँ दीं तो किसी ने टायफाईड कहकर इलाज शुरु किया। दवा लेने से शरीर नीला पड़ गया और सूज गया। शरीर में खून की कमी होने से छः बोतलें खून चढ़ाया गया। इंजेक्शन देने से पूरे शरीर को लकवा मार गया। पीठ और पेट का एक्स रे लिया गया। डॉक्टरों ने उसे वायु का बुखार तथा रक्त का कैंसर बताया और कहा कि उसके हृदय का वाल्व चौड़ा हो गया है। ज्यों-ज्यों इलाज किये, त्यों-त्यों मर्ज बढ़ा दिया। यह है अंग्रेजी दवाओं और इंजेक्शनों का काला मुँह ! फिर भी हम चेतते नहीं। अब हम हिम्मत हार गये। गुरु जी के सिवाय कोई सहारा नहीं था। हमने पूज्य श्री की कुटिया की परिक्रमा की एवं श्री आसारामायण का पाठ किया। गुरुजी की करुणा-कृपा बरसी और 18 दिनों में ही मेरा पुत्र चलने फिरने लगा। अब वह पूर्णतया ठीक हो चुका है। मैं उन महापुरुष की जीवनगाथा को बार-बार नमन करता हूँ,जिसके श्रद्धा-संयुक्त पाठ से मेरे पुत्र को जीवनदान मिल सका और भक्त भाइयों से प्रार्थना करता हूँ कि वे नित्य इसका मंगलमय पाठ किया करें।

एन.डी.चावला
प्रसिद्ध उद्योगपति
सेक्टर 35, चण्डीगढ़

ऋषि प्रसाद, पृष्ठ 30, अंक 133, जनवरी 2004

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

भूले भटकों को दिखाये राहः ‘ऋषि प्रसाद’

मैं ऋषि प्रसाद का सदस्य हूँ। इस पत्रिका का सदस्य बनने से पहले मेरा जीवन बड़ा घृणित था।बुरी संगत में आकर मैंने अपना यौवनरूपी धन व्यर्थ बहा दिया। इसमें केवल मेरा ही दोष नहीं है बल्कि आज का प्रदूषित वातावरण ही ऐसा है कि जिसमें युवावर्ग अक्सर भटक जाता है। युवावर्ग को उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। ऋषि प्रसाद में आने वाले ‘युवा जागृति संदेश’ शीर्षक लेख से प्रभावित होकर मैंने ब्रह्मचर्य पालन करने का निर्णय ले लिया है। अब मैं प्रतिदिन सुबह-शाम रामनाम जपता हूँ। आपके द्वारा प्रकाशित ऋषि प्रसाद पत्रिका देश में असंख्य भूले भटके व्यक्तियों को सही रास्ते पर लाने का कार्य सरलता से करती है। इसकी जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम है।

विजय ‘स्टार’, रणवां की ढाणी, चूरू (राजस्थान)

ऋषि प्रसाद, पृष्ठ संख्या 31, सितम्बर 2002, अंक 117

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

I am really happy to get bapu ji as my Guru

 

I am really happy to get bapu ji as my Guru. i have no words to explain about him. i am speechless, he is everything. when i was in delhi then i was trapped with lot of problems but my guruji helped me & solved that very easily& i overcomed.This is not d 1st exerience i,m sharing, lot of experiences i have. My Guruji is one who understand me always. Really i think, i am the happiest soul on this earth coz, i got Asaramji as my guruji…. Thanku…
-Manisha manisha.man@rediffmail.com

 

Pujya Bapuji’s Locket

Shree SadGuru Devayah Namah..
manish bhai se prerit hokar apna hi ek pahla aur chhota sa anubhav likh raha hu..

is anubhav se Asaramayan ki ye lines aur bhi sach lagti hai..
..sarvatra ek kise batlaye sarv vyapt kaha aaye jaaye..

It was the time when I was not dixit and not even seen PujyaShree once, but started attending Gurudev’s satsangs in Dubai (UAE) on Fridays.
Once the Satang was over and I was looking at the PujyaShree’s Locket at   stall, i asked Sadhak bhai there how much does it cost, he answered around 5 Dhs ( Rs. 60-65 appx.). I thought why should I spend even that much on the locket , also sort of thinking like I am also a special bhakat of Bapuji, not a aisa vaisa bhagat.. I will wear this only when only Pujya Gurudev will give it to me with His holy hand, otherwise I am not going to wear the same.and also am already wearing another Locket of my mataji’s gurudev, so I thought whether should I wear another Saint’s locket or not would it be right / wrong etc. etc..

then I just stood along a wall and started looking at Rishi-Prasad. Just after 1-2 min. a sadhak bhai came front of me and said there is some prasad came from Ahamdavad  Ashram..Pujyashree has given for Dubai Sadhaks…pl. have it, I said give it to another  sadhak bhai standing next to me.. that bhai said pl. give it to me.. then sadhak bhai finally gave it to me  and as it was properly wrapped with the paper I touched it with forehead and put it into my front pocket. I thought some dry fruits must be there inside that..  After finishing the Rishi-Prasad I opened the wrapper and what I saw is a shining locket of Pujyashree there..
I could not stop my emotions that just 2 min. back I was just thinking of  something, did not speak  to anyone what I am thinking of..and got what I even could not imagine.. that too in just 2 min.

since then I feel there is someone in this universe who is connected and has close watch on
you all of the time.. wherever you are…you are not alone in this world..

Regards,
Paresh Goyal

Bapu ke kai roop

HARI OM

Kal Ashram se vaapas aate samay ek anubhav yaad aaya. Mujhe theek se yaad
nahin hain, par jaise bhi kuch oopar-oopar se yaad hain likh rahaa hoon.

Year 2001 mein, Ahmedabad Ashram se sadhak bhai – Kamal Bhai, Hyderabad mein
Rishi Prasad sewa k sambandh mein aaye hue the.

(shayad) June mein Hyderabad k aas-paas – Bidar-Zaheerabad (Andhra
Pradesh-Karnataka-Maharashtra Border) areas mein, Kamal Bhai k saath sewaa k
liye gaye the.

Saadhak bhai/bahen(bahen jyaadaa the) ek jeep mein gaye the.

Vaapas aate samay, raat ko tyre puncture ho gayaa. Vaha aisaa route hain kee
bahut duur tak koee suvidha nahin, bahut hee kharaab road hain (par vahin se
jaanaa padtaa hain kyonki by-road jaane kaa vahee ek route hain, vehicle
bilkul slow chalanaa padtaa hain – Jagah kaa naam yaad nahin hain mujhe)

Raat kaa samay, sun-saan, kaee bahenon k saath, ham log the, us sthan par.

Us andhere mein Puraanaa tyre change karnaa thaa. Tyre nikaalne ki bahut
koshish ki, par nahin nikaal sake.

Tabhi ek lorry aaye. Driver ne lorry roki.

Use batayaa hamare tyre k problem k baare mein.

Vishwaskijiye ki un anjaan vyakti ne apne Lorry ki head lights On kar k,
apne stephni (tyre nikaalne k instrument) instument se jeep kaa puranaa tyre
nikaal kar doosra tyre laga diya. Ham ne bataaya ki ham BapuJi k sewaa karya
se gaye aadi aadi… Poochne par us vyakti ne apne gaav(Village) kaa naam
bataayaa, usee route par kuch doori par hain.

Fir vaha lorry mein chala gayaa.

Kuch hee der mein hamen lorry bhi nahin dikh rahee thi. Bas kaam poora huaa
aur lorry chali gayee.

Aage jaane k baad, subah hone par, raste mein hamne logon se us
gaav(Village) kahan hain poocha.

Pata chala ki us naam kaa koee gaav(Village) HAIN HEE NAHIN.

To fir kaun the VE jinhone hamaari madad ki????

Hey mere GuruDev, koti koti naman.

Hamare liye GuruDev kya kya karte hain, yaha ham kya samajh paaye.

Ham kya sewaa karte hain, sewaa to GuruDev hee karte hain.

Likhne main jo galtiyaan ho gaye uske liye GuruDev se kshamaa chaahataa
hoon.

HARI OM

Rupesh Kumar Saigal